Thermal Power Station क्या होता है? और बिजली कैसे बनती है |

तो आज हम बात करने वाले हैं थर्मल पावर स्टेशन (Thermal Power Station) के बारे में | इसका सीधा सा अर्थ है एक ऐसा स्थान जहां पर उच्च तापमान प्राप्त करके बिजली पैदा की जाती है | सुनने में जितना आसान लग रहा है असल में इसके पीछे उतना ही अधिक जटिल मैकेनिक प्रक्रिया काम करती है तो चलिए सरल शब्दों में जानते हैं की असल में थर्मल पावर प्लांट काम कैसे करता है यहां पर बिजली पैदा कैसे होती है चलिए जानते हैं |

Thermal Power Station एक बेहद ही रोमांचक विषय है जिसे आप जानते हैं तो आपकी इसे पढ़ने की जिज्ञासा और अधिक बढ़ने लगती है | तो थर्मल पावर स्टेशन के बारे में संपूर्ण जानकारी लेने के लिए पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें |

Thermal Power Station Meaning :-

थर्मल पावर स्टेशन का सीधे सरल शब्दों में अर्थ होता है एक ऐसा स्थान जहां पर उच्च तापमान या फिर ऊष्मा ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में परिवर्तित किया जाता है या फिर बदला जाता है | और अधिक सरल शब्दों में से कह सकते हैं बहुत अधिक तापमान को बिजली में बदला जाता है |

चलिए अब हम जानते हैं की थर्मल पावर स्टेशन काम कैसे करता है यानी कि असल में हो ऊष्मा को बिजली में बदलने की प्रक्रिया है क्या |

Thermal Power Station काम कैसे करता है ?

थर्मल पावर स्टेशन लगभग 4 से 5 किलोमीटर के दायरे में फैला होता है जिसमें अलग-अलग काम के लिए अलग-अलग जगहों पर उपकरणों को लगाया जाता है या फिर प्लांट लगाए जाते हैं | जैसे थर्मल पावर स्टेशन में बिजली बनाने की सबसे पहली प्रक्रिया में कोयले को प्लांट में लाया जाता है |

कोयले को प्लांट में लाने के सबसे प्रमुख तरीका है रेलगाड़ी के द्वारा कोयले को लाना | जिसे सबसे पहले प्लांट के Coal Yard में डाला जाता है |

अब इस कोयले से बॉयलर को चलाया जाता है जिसके बाद बॉयलर में बनने वाली इस टीम को टरबाइन में डाला जाता है अर्थात टरबाइन को घुमाया जाता है और टरबाइन घूम कर अल्टरनेटर को घुमा कर बिजली बनाता है और सुनने में काफी सरल लग रहा है लेकिन असल प्रक्रिया काफी जटिल है |

सीधे सरल शब्दों में इसे ऐसे समझा जा सकता है सबसे पहले कोयला आया कोई लेने बॉयलर को चलाया बॉयलर ने टरबाइन को चलाया टरबाइन ने अल्टरनेटर को चलाया और अंततः अल्टरनेटर ने उस्मा ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में बदल दिया | अर्थात कोयले से निकलने वाली ऊष्मा यानी की हिट अब बिजली में बदल चुकी है |

जिसके बाद से बड़े-बड़े बिजली घरों से हर गांव कस्बे मोहल्ले इलाके शहर राज्य में पहुंचा जाए पहुंचाया जाता है |

Thermal Power Station Diagram :-

नीचे दी गई फोटो Thermal Power Station का डायग्राम है | जिसे देखकर आप और अधिक आसानी से समझ सकते हैं कि असल में Thermal Power Station काम कैसे करता है और साथ ही साथ में किन किन उपकरणों का इस्तेमाल किया जाता है | हालांकि यह केवल एक अंश मात्र चित्र है थर्मल पावर स्टेशन का क्योंकि थर्मल पावर स्टेशन खुद में ही एक बहुत अधिक फैला हुआ छेत्र और विषय है |

इसे भी पढ़ें : –

ऐसे मिलेगा Mobile Number se Loan ₹500000 तुरंत | जाने पूरी प्रक्रिया |

PM Kisan Registration Number कैसे निकाले | PM Kisan Samman Nidhi Yojna Registration Number कैसे निकाले |

Conclusion (Thermal Power Station ) : –

तो आज हम नहीं जाना Thermal Power Station क्या होता है | साथ ही साथ Thermal Power Station काम कैसे करता है ? और बिजली कैसे बनती है ? मुझे उम्मीद है आपका यह पोस्ट आपके लिए मददगार साबित हुआ होगा यदि आपके पास अभी भी कोई सवाल या फिर सुझाव है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं |

साथ ही यदि आप हमें सपोर्ट करना चाहते हैं तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें जिससे हमारी भी मदद होगी और आपके दोस्तों को भी एक नई जानकारी मिलेगी |

FAQ (Thermal Power Station ) : –

What is Thermal Power Station ?

एक ऐसा स्थान जहां उच्च ऊष्मा ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा अर्थात बिजली में परिवर्तित किया जाता है |

Thermal Power Station लगभग कितने बड़े क्षेत्र में फैला होता है ?

Thermal Power Station में बिजली पैदा करने के लिए बहुत अधिक क्षेत्र की आवश्यकता होती है इसलिए एक थर्मल पावर स्टेशन लगभग 4 से 7 किलोमीटर के दायरे में फैला होता है |

Thermal Power Station Meaning in Hindi ?

ताप ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में बदलने वाला स्थान Thermal Power Station कहलाता है |

Thermal Power Plant का आविष्कार किसने किया था ?

एक फ्रांसीसी वैज्ञानिक हिप्पोलाइट पिक्सी ने सन 1832 में किया था |

1 thought on “Thermal Power Station क्या होता है? और बिजली कैसे बनती है |”

Leave a comment